DU HIndi 1st Year Notes

Delhi University Hindi 1st year notes available here. Content provided from the top lecturers in DU. Notes can be referred for preparation and revision purpose. #Delhiuniversity

Views: 80882

Added: 3 years ago

Attachments
DU HIndi 1st Year Notes-अनिवार्य पाठ  नगेन्द्र ‘रीतिकाव्य की भूमिका’ से ‘रीतिकाव्य की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि'.pdf
अनिवार्य पाठ नगेन्द्र ‘रीतिकाव्य की भूमिका’ से ‘रीतिकाव्य की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि'.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-अन्य धारा - रहीम.pdf
अन्य धारा - रहीम.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-आकाशदीप.pdf
आकाशदीप.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-आदिकाल का धार्मिक साहित्य.pdf
आदिकाल का धार्मिक साहित्य.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-आदिकाल का परिवेश.pdf
आदिकाल का परिवेश.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-आपका बंटी मध्यवर्गीय परिप्रेक्ष्य.pdf
आपका बंटी मध्यवर्गीय परिप्रेक्ष्य.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-आपका बंटी मन्नू भंडारी.pdf
आपका बंटी मन्नू भंडारी.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-उसने कहा था फाइनल.pdf
उसने कहा था फाइनल.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-कबीर का रहस्यवाद.pdf
कबीर का रहस्यवाद.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-कुतुबन मृगावती.pdf
कुतुबन मृगावती.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-कृष्णा सोबती.pdf
कृष्णा सोबती.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-खड़ी बोली और उर्दू के महान् कवि  खुसरो.pdf
खड़ी बोली और उर्दू के महान् कवि खुसरो.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-गोदान  औपन्यासिक शिल्प.pdf
गोदान औपन्यासिक शिल्प.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-गोदान  कृषि संस्कृति.pdf
गोदान कृषि संस्कृति.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-गोस्वामी तुलसीदास.pdf
गोस्वामी तुलसीदास.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-जंगल जातकम फाईनल मिहिर पंड्या.pdf
जंगल जातकम फाईनल मिहिर पंड्या.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-तीसरी कसम स्वाति सोनल.pdf
तीसरी कसम स्वाति सोनल.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-तुलसीदास और उनकी कवितावली.pdf
तुलसीदास और उनकी कवितावली.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-दोपहर का भोजन अमरकांत.pdf
दोपहर का भोजन अमरकांत.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-निर्मल वर्मा परिंदे उमाशंकर मिश्र.pdf
निर्मल वर्मा परिंदे उमाशंकर मिश्र.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-पाजेब-जैनेन्द्र.फाईनल.pdf
पाजेब-जैनेन्द्र.फाईनल.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-पिताः ज्ञानरंजन.pdf
पिताः ज्ञानरंजन.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-पूस की रात प्रेमचंद.pdf
पूस की रात प्रेमचंद.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-भक्ति आंदोलन के उदय की पृष्ठभूमि.pdf
भक्ति आंदोलन के उदय की पृष्ठभूमि.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-भक्तिकाल की धाराएँ - सूफीकाव्य - जायसी.pdf
भक्तिकाल की धाराएँ - सूफीकाव्य - जायसी.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-भक्तिकाल की धाराएं.pdf
भक्तिकाल की धाराएं.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-भक्तिकाव्य मूल्य और प्रासंगिकता.pdf
भक्तिकाव्य मूल्य और प्रासंगिकता.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-भारतीय चिंता का स्वाभाविक विकास - ह.द्विवेदी.pdf
भारतीय चिंता का स्वाभाविक विकास - ह.द्विवेदी.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-मिस पाल डा० अनुराधा गुप्ता.pdf
मिस पाल डा० अनुराधा गुप्ता.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-मीरांबाई.pdf
मीरांबाई.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-मीराबाई का रचना संसार.pdf
मीराबाई का रचना संसार.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-रासो काव्य.pdf
रासो काव्य.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-रीतिकाल  श्रृंगारिकता, प्रेम और सौन्दर्य, नीति, वीरता.pdf
रीतिकाल श्रृंगारिकता, प्रेम और सौन्दर्य, नीति, वीरता.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-रीतिकाल का सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवेश.pdf
रीतिकाल का सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवेश.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-रीतिकाव्य में नारी.pdf
रीतिकाव्य में नारी.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-लौकिक साहित्य - अमीर खुसरो एवं विद्यापति.pdf
लौकिक साहित्य - अमीर खुसरो एवं विद्यापति.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-सुदर्शन हार की जीत फाईनल.pdf
सुदर्शन हार की जीत फाईनल.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-सूरज का साँतवा घोड़ा  नए शिल्प का उपन्यास.pdf
सूरज का साँतवा घोड़ा नए शिल्प का उपन्यास.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-सूरज का सातवाँ घोडा (विचार एवं संवेदना).pdf
सूरज का सातवाँ घोडा (विचार एवं संवेदना).pdf
DU HIndi 1st Year Notes-सूरजा का  सातवाँ घोडा़.pdf
सूरजा का सातवाँ घोडा़.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-सूरदास.pdf
सूरदास.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-हिंदी साहित्य  काल विभाजन एवं नामकरण.pdf
हिंदी साहित्य काल विभाजन एवं नामकरण.pdf
DU HIndi 1st Year Notes-हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन की परंपरा का परिचय.pdf
हिंदी साहित्य के इतिहास लेखन की परंपरा का परिचय.pdf

अनिवार्य पाठ नगेन्द्र ‘रीतिकाव्य की भूमिका’ से ‘रीतिकाव्य की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि'.pdf

Download
Knowledge Score: N/A
Ask a Question
17 Questions (2 Answered)
Bhakti andolan ki prishthbhumi
by  BIRAJ KUMAR ( Jul 16, 2020, 2:18 PM )
Be the first one to answer
Respiration in arthropods
by  Nijara Barman ( Jun 9, 2020, 9:08 AM )
Be the first one to answer
भक्ति आंदोलनके उदय के समय भारतीय उपमहाद्वीप मे मौजूद सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनैतिक परिस्थियों का उदाहरण!
by  Khushboo Ambulkar ( May 22, 2020, 6:51 AM )
Be the first one to answer
BHAKTI AANDOL KI PRASHTBHOOMI
by  Shriram Sahni ( Nov 17, 2019, 3:12 PM )
Be the first one to answer
भक्ति आंदोलन का परिवेश
by  VANDANA TIWARI ( Nov 13, 2019, 12:35 PM )
Be the first one to answer
भक्ति आंदोलन का परिवेश
by  VANDANA TIWARI ( Nov 13, 2019, 12:31 PM )
Be the first one to answer
भक्ति आंदोलन का परिवेश
by  VANDANA TIWARI ( Nov 13, 2019, 12:31 PM )
Be the first one to answer
रस की प्रक्रिया को समझाइ रस की प्रक्रिया को सरल बनाना
by  urmila meena ( Nov 8, 2019, 5:48 PM )
-3

रसानुभूति के प्रक्रिया 

(1)इस में पहले रस क्या है  ,आचार्यों के मत

(2) उसके बाद में अंग को सही से पूरी तरह से खोल कर लिखना होगा। , आचार्यों के मत

(3) साधारणीकरण इसमें आचार्यों के मत

(4) रस निष्पत्ति इसमें आचार्यों के मत

(5) निष्कर्ष

रसानभूती की प्रक्रिया विद्यापति भक्त एवम् श्रृंगारिक का पीडीएफ
by  Brijesh Gupta ( Nov 1, 2019, 4:26 PM )
-1

Nhi h bhai

-2
Kafan kahani hai pdf ke rup me
by  Bhavesh rajaiya ( Oct 20, 2019, 11:12 AM )
Be the first one to answer
hiraman aur hirabai ka charitra chitran (tisre kasam)
by  SACHIN KUMAR ( Oct 8, 2019, 3:45 AM )
Be the first one to answer
hiraman aur hirabai ka charitra chitran (tisre kasam)
by  SACHIN KUMAR ( Oct 8, 2019, 3:44 AM )
Be the first one to answer
Ritikal ke kavi aashraydatao ki prasansa kyu krte the apne kavya me yatharth ka chitran kyu nhi kiy?
by  puja kumari ( Jul 30, 2019, 4:10 AM )
Be the first one to answer
-2
Vartmaan samay me ritikal kyu prasangik hai?
by  puja kumari ( Jul 30, 2019, 4:07 AM )
Be the first one to answer
Kabir kewal samajsudharak hi nhi, krantikari the. Vivechana kijiy
by  puja kumari ( Jul 28, 2019, 7:26 AM )
Be the first one to answer
-1
भक्तिकाल के सन्दर्भ में आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने लिखा है अगर इस्लाम नही आया होता तो भी इस साहित्य का बारह आना वैसा ही होता जैसा आज है ꫰ इस कथन का विवेचन कीजिए ꫰
by  ambuj kishor gautam ( May 10, 2019, 10:31 AM )
Be the first one to answer
Nirgun sargun dhaaraye
by  Priya Tiwari ( Mar 31, 2019, 2:46 PM )
Be the first one to answer
Preeti Parashar

Preeti Parashar Creator

exploring almost everything

Suggested Creators

Preeti Parashar